Posts

Showing posts from June, 2017

Father's day / पिता............. एक अहसास !

Image
पिता..................! मेरे पापा....
 उन्होनें मुझे हमेशा एक अच्छा निर्णायक बनने मे मदद कि वो हमेशा चाहते है कि अपने जीवन मे एक अच्छा निर्णायक बनु ताकि बुलन्दी की उस मंजिल पर पहँच सकूँ जहां से दुनिया छोटी नजर आये। परन्तु इतना ऊपर जाने से हमेसा राके रखा कि मैं दुनिया को भूल जाऊँ। उन्होने हमेशा अहसास कराया कि जीवन में हमारा लक्ष्य सदा ही आगे बढना होना चाहिए न कि किसी को नीचे गिराना। वो मुझे हमेसा अपने पास बैठा कर समझाया करते है कि कब क्या करना है क्या नही करना है या युँ कहें कि एक तरह से मेरी इच्छाओं पर पाबंदी लगाते है। उस समय ये पाबंदी मुझे किसी सजा से कम न लगती थी। लेकिन मैं जब भी कुछ करने मे असहज महसूस करता हुँ, उस समय उनकी सिखायीं हुईं बाते मुझे हमेसा आत्मविश्वास और उनके साथ होने का अहसास दिलाती है। मैं जब भी किसी प्रतियोगिता को जीत कर आता तो उसकी खुशी शायद मेरे पापा से ज्यादा किसी को न होती थी। उनका साथ होने से मैं कभी हार कर भी नही हारता हुँ, क्योंकि उन्होने मुझे हार मे जीत की अद्भुत कला जो सिखा दी। वो मुझे छोटी-छोटी गलतियों पर हमेशा डांट करते है। परन्तु एक पापा ही है जो हमारे लिय…