Posts

Showing posts from September, 2017

युवाओं से आवाहन / Appeal to youth

Image
उठो-उठो हे, युवाओं.....
सबको ये बतलाना है।                                 बहुत हुआ ये भ्रष्टाचार,                                तुम्हें इसे मिटाना है।
आवाहन हे युवाओं से, अब इतिहास तुम्हें बदलना होगा।                             किया तिमिर भ्रष्टाचार ने,                        न्याय ज्योति बन तुम्हें जलना है। एक बना सम्पूर्ण राष्ट्र, तुम्हें लौह-पुरूष कहलाना है।                           उठो-उठो हे युवाओं......                     ये अन्धकार तुम्हें मिटाना है ।।1।। जड़े फैल रहीं हैं, कूटनीति कि, चहुँओर अन्धकार छाया है।                           भटक गये हैं पथ से सब,                         अब तुम्हें ही राह दिखाना है।
     उठो-उठो हे युवाओं...... ये अन्धकार तुम्हें मिटाना है ।।2।।                     राष्ट्र एकता कि ले मशाल,                         विश्व भ्रमण करना है। पड़े जरूरत जब भी रण में, वीर शिवा बन लड़ना है।                         देश रक्षा कि खातिर,                    अब तुमको जीना-मरना है। जात-पात कि तोड़ बेड़ियाँ, सबको गले लगाना है।
                         उठो-उठो हे युवाओं......  …