Posts

Showing posts from December, 2017

My thinking

*MY THINKING* मेरी सोच ने लोगों की सोच को सोच कर सोचा, तब मैं लोगों की सोच को सोच कर समझा, जब लोगो की सोच को सोच-सोच कर सोचा।।

 ✍ By - नन्दकिशोर पटेल (नंदन)