Posts

Showing posts from October, 2018

राम-रावण संवाद प्राचीन व आधुनिक|मैं रावण न होता तो पूजे भगवन तुम भी न जा...

Image

राम-रावण संवाद, अगर रावण न होता तो पूजे भगवन तुम भी न जाते। by - नंदकिशोर पटेल "नन्दन"

Image
रावण कहता हैअगर मैं रावण न होता तो पूजे भगवन तुम भी न जाते, अगर मै जन्मा न होता तो तुम भगवन होकर भी पृथ्वी पर जन्म नहीं पाते,
अगर लक्ष्मण जैसा भाई न होता तो तुम लंका जीत नहीं पाते, अगर मेरे अपने मेरा भेद नहीं बताते कास..विभीषण भइया लक्ष्मण हो जाते हाँ ! मै जीत नहीं पाता पर तीन लोक के स्वामी मुझे हरा नहीं पाते न मै सीता हरता न तुम लंका को आते, अगर रघुनंदन की न किरपा होती जो, तो इस भव-सागर से हम पार नहीं पाते, जो भगवन ने न तारा होता तो हम वैकुण्ड भला कैसे जा पाते, 👇👇👂👂राम जी कहते हैं👂👂👇👇
मैने तो तेरे सभी अधर्मों को मारा था, तुझमे वास किये थे जो उन पापों को संघारा था, मर कर भी तुम अमर रहे और स्वयं हरि तूमसे हार गये, तुम जैसा कोई वाली नहीं था न तेरे जैसा शिव-ध्यानी..... तीन लोक में न कोई तुम सा ज्ञानी... हे लंकापति तूँ भी मारा न जाता....तूँ जिन्हें जानता था सन्यासी, जोगी वस्त्र किये धारण भटक रहे वनवासी...वो स्वामी थे वैकुंड के वासी... तूँ जिन्हें हर कर ले गया महल में वो तीन लोक की जननी थीं... फिर भी अगर तूँ आता करने वन्दन शरण हमारी तो छोड़ तुझे देते इसे मान तेरी नादानी.... तुझे मतिभ्रष्टी कहदूँ या त…